in ,

आईये जानते हैं आईपीएल के रूल्स

2008 से शुरू हुआ आईपीएल लगातार अपने स्वरूप में कई सारे परिवर्तन करता रहा है

2008 से शुरू हुआ आईपीएल लगातार अपने स्वरूप में कई सारे परिवर्तन करता रहा है. कई नए नए नियम आईपीएल के हिस्सा बनते रहे हैं. वहीं कई पुरानेनियमों को आईपीएल अलविदा कहता रहा है. इन्ही खास नियमों की वजह से आईपीएलआज इतना प्रसिद्ध टूर्नामेंट बन चुका है.

यदि क्रिकेट की दुनिया  की  बातकी जाए तो आईपीएल इस वक्त किसी भी बोर्ड के द्वारा संचालित सबसे प्रसिद्ध लीग है, जिसको दुनिया भर में लोग देखते हैं. आईपीएल अब अपने 12वे संस्करण की तैयारियों में पूरी तरीके से लगा हुआ है. 23 मार्च से आईपीएल का 12 वा संस्करण प्रारंभ होगा. इस संस्करण में भी आईपीएल में कुछ ऐसे प्रमुख बदलाव देखने को मिलेंगे जो आईपीएल के सफर को और भी ज्यादा रोमांचकऔर मनोरंजक बनाकर दर्शकों के सामने रखेंगे

आईपीएल 2019 के लिए 18 दिसंबर के दिन जयपुर में ऑक्शन किया गया था इस ऑक्शन में आईपीएल 2019 से संबंधित एक नए रूल का सभी फ्रेंचाइजी ने पालन किया. यह नियम ऐसा था कि इस ऑक्शन के लिए हर टीम अपने पांच पांच प्रमुखखिलाड़ियों को रिटेन कर सकती है. मतलब हर फ्रेंचाइजी को यह अधिकार था किअपनी टीम के किसी भी पांच प्रमुख खिलाड़ी को वह अपनी टीम में बरकरार रख सकती है.

उन पर किसी भी तरीके का दबाव नहीं बनाया जा सकता कि वह उनको ऑक्शन के मैदान पर उतारे नियम का फायदा हर टीम ने उठाया. कई बड़ी बड़ी टीमों ने अपने प्रमुख खिलाड़ियों को रिटेन किया जिससे उस टीम की मजबूती बरकरार रही. इसके साथ वही कुछ दिल्ली और पंजाब जैसी भी टीम भी थी जिन्होंने लगभग पूरेखिलाड़ी को ऑक्शन के मैदान में उतार दिया था क्योंकि वह पूरी तरीके से नए खिलाड़ी को अपने टीम में शामिल करने  के  इच्छुक थे.

नियम का फायदा हर टीम ने उठाया. कई बड़ी बड़ी टीमों ने अपने प्रमुख खिलाड़ियों को रिटेन किया जिससे उस टीम की मजबूती बरकरार रही. इसकेसाथ वही कुछ दिल्ली और पंजाब जैसी भी टीम भी थी जिन्होंने लगभग पूरेखिलाड़ी को ऑक्शन के मैदान में उतार दिया था क्योंकि वह पूरी तरीके से नएखिलाड़ी को अपने टीम में शामिल करने  के  इच्छुक थे.

वहीं आईपीएल का एक नया नियम मिडसीजन ट्रांसफर नियम है. जिसके अनुसार कोई भी टीम अपने खिलाड़ी को किसी दूसरे टीम के साथ खेलने के लिए भेज सकती है.यह नियम बहुत ही रोचक है. इस नियम के कारण हम एक ही खिलाड़ी को दो अलगअलग टीमों से खेलते हुए देख सकते हैं. इसके लिए 2 शर्त रखी गई है.

सबसेपहली शर्त यह है कि आईपीएल के जब तक 25 मैच नही हुए हो तब तक इस नियम का पालन नही हो सकता है. 25 मैच के बाद ही यह नियम लागू होगा. इसके साथ ही यह भी आवश्यक है कि खिलाड़ी 2 या 2 से अधिक मैच नही खेला हो. ऐसे खिलाड़ीको फ्रैंचाइज़ी आपसी रजामंदी से बदल सकती है.

वीआर टेक्नोलॉजी जिसे हम वर्चुअल रियलिटी टेक्नोलॉजी के नाम से भी जानतेहैं. यह टेक्नोलॉजी आईपीएल में सन 2018 के सीजन में भी लागू हुई थी,लेकिन इसका उपयोग नहीं किया गया था. इस टेक्नोलॉजी का सबसे बड़ा फायदा यहहै कि आप घर में बैठ कर के भी स्टेडियम जैसा अनुभव कर सकते हैं. इसके लिएआपको बस आपको एक वर्चुअल बॉक्स खरीदना पड़ेगा. इसके बाद इस बॉक्स को अपनेअपने मोबाइल में हॉटस्टार आईडी के माध्यम से कनेक्ट करना पड़ेगा.

इसके बाद आप इस बॉक्स के माध्यम से ऐसा अनुभव कर सकते हैं जैसे आपस्टेडियम में ही मैच बैठकर देख रहे हो. यह टेक्नोलॉजी इस साल से पूर्णतयालागू हो जाएगी जिसका फायदा दर्शक घर में बैठ कर के उठा सकेंगे.

https://www.youtube.com/playonindiatv

What do you think?

Written by playon

आईपीएल के रहस्यमयी गेंदबाज

आईपीएल के बेस्ट विदेशी गेंदबाज