in

अफरीदी ने फिर उगला जहर , शिखर धवन ने दिया मुहं तोड़ जवाब

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व ऑलराउंडर खिलाड़ी शाहिद अफरीदी आए दिन भारत सरकार के खिलाफ जहर उगलते रहते है और कश्मीरियों से अपनी हमदर्दी जताते रहते हैं। रविवार को पाकिस्तान के कब्जे किए गए कश्मीर पर भी अफरीदी ने पीएम मोदी के खिलाफ आग उगलते हुए भड़काऊ भाषण दिया है। इस भाषण में उन्होंने कश्मीर के अच्छे खिलाड़ियों को कराची ले जाने की बात कह डाली है।

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी ने रविवार को पीओके पर आकर भारत सरकार के खिलाफ भाषण बाजी की और इस भाषण में उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी को मजहबी बीमारी से ग्रसित और डरपोक करार दिया। इतना ही नहीं उन्होंने कश्मीर के खिलाड़ियों को कराची ले जाने की बात भी कहीं। शाहिद अफरीदी ने पीओके में मीडिया से बातचीत करते हुए यह सब कहा कि

मैं कश्मीर आकर वहां के लोकल क्लब के मैच देखना चाहूंगा। वहां के बैच खिलाड़ी को अपने साथ कराची ले जाना चाहूंगा। वह मेरे साथ रह सकते हैं और अभ्यास कर सकते हैं। मैं उनकी पढ़ाई का खर्चा भी उठाने के लिए पूरी तरह से तैयार हूँ।

कोरोना वायरस पूरी दुनिया में लोगों की जान ले रहा है। तो वहीं भारत और पाकिस्तान भी महामारी से बुरी तरीके से पीड़ित है। इस बीच अपने देशवासियों की मदद करने की बजाय शाहिद अफरीदी पीओके पर खड़े होकर भारत सरकार और मोदी के खिलाफ जहर उगलते हुए दिखाई दिए। उन्होंने कश्मीरियों से हमदर्दी जताते हुए कहा कि-

आप लोगों के बीच में आकर मैं खुश हूं। यह एक बहुत बड़ी बीमारी दुनिया में फैली हुई है। लेकिन इससे भी बड़ी बीमारी मोदी के दिलों दिमाग में है। वह एक मजहबी बीमारी है और वह मजहब को लेकर सियासत करते रहते हैं। सालों से कश्मीर में हमारे भाई बहन और बुजुर्ग पर जुल्म कर रहे हैं। उन्हें इसका जवाब आखिर में देना ही पड़ेगा।

इसी के साथ उन्होंने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा-वैसे तो मोदी दिलेर बनने की काफी कोशिश करते हैं। लेकिन वह डरपोक है छोटे कश्मीर के लिए उन्होंने अपनी 7 लाख की फोर्स तैनात की है। जबकि पाकिस्तान की कुल फौजी 7 लाख की है। लेकिन उन्हें यह नहीं पता कि पाकिस्तानी फौज के पीछे 22 से 23 करोड़ लोग खड़े हैं। जो कश्मीर के लिए पाकिस्तानी फौज का साथ दे रहे हैं और मैं उन्हें सलाम करता हूं।

जब शाहिद अफरीदी ने जो पीएम मोदी पर वार किया तो भारतीय क्रिकेटर ने भी उन्हें आड़े हाथों लिया। युवराज सिंह, हरभजन ने और गौतम गंभीर ने पर निराशा व्यक्त की। शिखर धवन ने साफ कह डाला कि “कश्मीर हमारा था हमारा है और हमारे पास ही रहेगा।

What do you think?

Written by playon

बिना दर्शकों के क्रिकेट लगेगा बिना दुल्हन के शादी; शोएब अख्तर

आईपीएल के ऐसे तीन मौके जब मैदान पर ही रो पड़ें ये दिग्गज खिलाड़ी